ADMISSION HELPLINE & GUIDANCE Please Contact To :-- 9755969842 :-- 7999340760 ( 9 AM To 9 PM )

|

Kanak Education Institute of Medical Science

हमारा उद्देश्य

हम आपके पास इस सन्देश के माध्यम से मेडिकल कोर्स सम्बंधित संपूर्ण जानकारी भेज रहे है क्रपया इस स्वर्णिम अवसर का लाभ उठाये तथा अपने सहयोगी मित्रो भाई बंधुओ को भी इन कोर्सो में प्रवेश दिलाकर अपने साथ उनका भी भविष्य उज्जवल बनाये | यह कोर्स करने के बाद कोई भी अधिकारी आपको बोगस या झोलाछाप डॉक्टर नहीं कहेगा इन कोर्सो को करने के बाद आपको सर्टिफिकेट डिप्लोमा मार्कशीट प्रदान किये जायेगे जिससे आप हेल्थ सेंटरों में वेकन्सी निकलने पर नौकरी के लिए आवेदन करने की पात्रता रखते है |

हमारा उद्देश्य किसी भी छात्र या वैद्य - डॉक्टर को धोखा देना नहीं है हमारा उद्देश्य आपको सही तथ्यों से सर्वप्रथम अवगत कराना है या संस्था तथा कोर्सेज की मान्यता के तथा सम्बंधित कानून के सम्बन्ध में स्पस्ट जानकारी देना है या किसी को झूठे तथ्य देकर चीटिंग करके या धोखा देकर या झूठ बोलकर धन का अर्जन नहीं करना है

कानूनी रूप से चिकि्त्सा कार्य वही चिकित्सक कर सकते है जिन्होंने C.P.M.T. पास करके साढ़े पांच साल का रेगुलर कोर्स M.B.B.S. / B.A.M.S / B.H.M.S. / B.D.S.आदि कोर्स पास किये है और 10 से 60 लाख रुपए खर्च किये है , और किसी को भी आज की तारीख में चिकत्सा कार्ये करने का कोई कानूनी अधिकार नहीं है। हमारे देश में ऐसे डॉक्टर्स की संख्या लगभग 6 लाख है जबकि अनुभवी चिकत्सकों की संख्या लगभग 50 से 60 लाख के बीच है

इस समय अनुभव आधार पर चिकित्सा कार्ये करने के लिए अनुभवी डॉक्टर्स के लिए कोई स्पस्ट कानून नहीं बनाया गया है , न तो इन्हे सरलता से प्रैक्टिस करने के लिए अनुमति दी गयी है और न ही बड़ी कठिनता से मना किया गया है , जिस किसी चिकितसक ने किसी संस्था से डिप्लोमा लेकर तथा किसी डॉक्टर के यहाँ रहकर अनुभव प्राप्त कर समाज में अपनी सेवाये देनी शुरू कर दी ,और समाज ने उसे चिकित्सक के रूप में स्वीकार कर लिया , वह ही प्रसिद्ध डॉक्टर बन गया , उसी के पास घर , गाडी , बंगला हो गया , और अब ऐसे चिकित्स्को को अपनी प्रैक्टिस और सम्मान के बचाव के लिए सरकार से रजिस्टर्ड संस्थाओ से कुछ कोर्स करने ही होंगे जिससे उनकी प्रैक्टिस और सम्मान की रक्षा हो सके , इस समय इस तरह के कुछ कोर्स किये जा सकते है

Total Visitors : 151664

Today Visits : 40